रविवार, 10 जनवरी 2021

वही तो गाता है ...

सुमधुर,
सनातन शाश्वत गीत 
हृदय के तारों पर 
वही तो गाता है 
सेकडों कंठों को 
अपना उपकरण बनाकर !
जिसमें से कोई एक कंठ 
किसी के 
सोए पड़े तारों को 
झनझना कर जगाता है !
हृदय के तारों पर 
गीत वही तो गाता है !

14 टिप्‍पणियां:

  1. सच कहा....वही जो अदृश्य है..पर दृश्य भी.

    जवाब देंहटाएं
  2. सुन्दर सृजन। विश्व हिन्दी दिवस पर शुभकामनाएं।

    जवाब देंहटाएं
  3. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" मंगलवार 12 जनवरी 2021 को साझा की गयी है.............. पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  4. वही तो गाता है....
    सुन्दर लगी।
    इस रचना को और जरा विस्तार देते तो आनन्द दोगुना हो जाता।।।।
    बधाई स्वीकार करें।

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत दिन बाद पढ़ा आपको ... कितनी सुन्दर बात ...

    सोए पड़े तारों को
    झनझना कर जगाता है !
    हृदय के तारों पर
    गीत वही तो गाता है !

    यदि संभव हो तो आइये मेरे ब्लॉग पर भी ... आपको याद कर रहा है मेरा ब्लॉग ...

    जवाब देंहटाएं
  6. आप मेरे ब्लॉग पर आईं ।बहुत अच्छा लगा । पुराने दिन ताज़ा हो गए । आभार

    जवाब देंहटाएं
  7. छोटे-सी लेकिन मनोहर कविता। अभिनंदन सुमन जी।

    जवाब देंहटाएं
  8. Thanks for sharing the nice list of gifts of mothers day. Get the latest mothers day gifts for mom, flowers for mothers day, cakes for mothers day online at Indiagift. Get flowers for mothers day, Get cakes for mothers day, Get gifts for mothers day

    Gifts For Mothers Day
    Get Mothers Day FLowers Online
    Get cakes for mothers day

    जवाब देंहटाएं