शुक्रवार, 26 अक्तूबर 2012

बांध न मुझ को बाहू पाश में .....


 मै,
सुरभि हूँ 
फूल की ...
महकती हूँ 
पल भर ...
महका कर  
सारा परिसर 
उड़ जाती हूँ 
निस्सीम 
गगन में
हवा संग,
बांध न तू 
रुनझुन-रुनझुन 
कर छंदों की 
मोहक कड़ियों से 
बांध न तू 
नाजूक फूलों की 
लड़ियों से 
बांध न तू 
मुझ को अपने 
बाहू पाश में ....

18 टिप्‍पणियां:

  1. पुष्पराज तू दुष्ट है, मद पराग रज बाँट ।

    तन मन मादकता भरे, लेते हम जो चाट ।

    लेते हम जो चाट, नयन अधखुले हमारे ।

    समझ सके ना रात, बंद पंखुड़ी किंवारे ।

    छलता रे अभिजात्य, भूलता सत रिवाज तू ।

    छोड़े मुझको प्रात, छली है पुष्पराज तू ।।

    उत्तर देंहटाएं
  2. उत्कृष्ट प्रस्तुति का लिंक लिंक-लिक्खाड़ पर है ।।

    उत्तर देंहटाएं
  3. उत्कृष्ट प्रस्तुति रविवार के चर्चा मंच पर ।।

    उत्तर देंहटाएं
  4. आज अकेला भौंरा देखा ,
    धीमे धीमे, गाते देखा !
    काले चेहरे और जोश पर
    फूलों को, मुस्काते देखा !
    खाते पीते केवल तेरी,याद दिलाएं ,ये मधु गीत !
    झील भरी आँखों में कबसे, डूब चुके हैं ,मेरे गीत !

    उत्तर देंहटाएं
  5. उम्दा है ..खुसबू को बाँधा नहीं जा सकता

    उत्तर देंहटाएं
  6. बांध न मुझ को बाहू पाश में .....


    मै,
    सुरभि हूँ
    फूल की ...
    महकती हूँ
    पल भर ...
    महका कर
    सारा परिसर
    उड़ जाती हूँ
    निस्सीम
    गगन में,
    बांध न तू
    रुनझुन-रुनझुन
    कर छंदों की
    मोहक कड़ियों से
    बांध न तू
    नाजूक फूलों की
    लड़ियों से
    बांध न तू
    मुझ को अपने
    बाहू पाश में

    उड़ने दे निस्सीम गगन में ,छंद मुक्त ,....मन के द्वार .बहुत सुन्दर प्रस्तुति सूक्ष्म समेटे जीवन का सार .

    प्रस्तुतकर्ता Suman पर 10:36 pm

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहने दे मुझे....उड़ने दे मुझे....पवन संग प्रेम करने दे...

    बहुत सुन्दर!!
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुरभि को कौन बाँध सका है भला

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत प्यारी सुंदर अभिव्यक्ति,,,,

    RECENT POST LINK...: खता,,,

    उत्तर देंहटाएं
  10. बेहद सुन्दर अभिव्यक्ति बधाई स्वीकारें

    उत्तर देंहटाएं