शनिवार, 10 दिसंबर 2011

दुनिया एक चित्रशाला है !

सुबह बगीचे में कई रंगों के गुलाब खिल गए ! और साँझ होते ही सब मुरझा गए ! जमीन पर सारी पंखुड़ियाँ झर गई,यह देखकर रचनाकार का मन उदास हो गया ! प्रकृति का सौन्दर्य क्षणभंगुर क्यों है ? काश सब रंग सारा सौन्दर्य शाश्वत होता ? उसने आकाश की ओर देखकर कहा ......हे इश्वर तुमने सौन्दर्य को शाश्वत क्यों नहीं बनाया ? आकाशवाणी हुई, जवाब मिला कि, दुनिया एक चित्रशाला है ! यहाँ रोज रंग बदलते है ! बदलने ही चाहिए ! इसकी रचना ही मैंने मिटने वाले रंगों से बनाई है ! अगर रंग ऐसे ही ठहर गए तो, इन्हें कौन देखना पसंद करेगा ? सब उदास हो जायेंगे ! सारा अस्तित्व ही बेरंग हो जायेगा ! लोग वही-वही सब देखकर बोर हो जायेंगे ! इसलिए हर रोज मै चीजे बदलता हूँ!
रचनाकार ने सोचा इश्वर की बात कितनी सच है ! सच में रोज रंग बदलने चाहिए ....!!

                                                       
                                                      वाह 
                                                      क्या रंग भरा है 
                                                      तुमने इस दुनिया में,
                                                      या फिर मेरे 
                                                      इन नयनों में !

10 टिप्‍पणियां:

  1. इस पोस्ट के लिए धन्यवाद । मरे नए पोस्ट :साहिर लुधियानवी" पर आपका इंतजार रहेगा ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति ,बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  3. @सच में रोज रंग बदलने चाहिए ....!!

    हमारा क्या होगा ...??
    खतरनाक सोंच ....

    उत्तर देंहटाएं
  4. क्या बात है, बहुत बढिया।
    काश ऐसा होता

    उत्तर देंहटाएं
  5. सच में रोज रंग बदलने लगे तो कितना अच्छा होता...

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर प्रस्तुति| धन्यवाद!!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  7. सच में दुनिया एक रंगशाला ही है।

    उत्तर देंहटाएं
  8. यह संकेत है कि सृष्टि चलायमान है। जो अतीत में जिएगा,वह शोकमय रहेगा। जो वर्तमान में जिएगा,भविष्य का आनंद उसी के हिस्से आएगा।

    उत्तर देंहटाएं