गुरुवार, 25 जून 2015

उथली सांत्वनाएँ ...


दुःख,
मेरे अपने है
खरे है !
समस्यायेँ
मेरी अपनी है
खरी है !
काम कैसे आयेंगे
समाधान
उथली सांत्वनाएँ
मित्र,
किसी और की    ... !

10 टिप्‍पणियां:

  1. सुंदर और सटीक...हर व्यक्ति को अपने हिस्से का दुःख खुद ही झेलना पड़ता है. समस्याओं का समाधान खुद निकलना पड़ता है, लोग तो सिर्फ़ सांत्वना ही दे सकते हैं...

    उत्तर देंहटाएं
  2. सांत्वना किसी काम की नहीं , अपने अपने दुःख और अपने अपने सुख !

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत उम्दा .....सबका साझा सा दर्द है ये

    उत्तर देंहटाएं
  4. सच है। समस्या अपनी, हल भी खुद ही ढूँढना है। फिर भी अक्सर डूबते को तिनके का सहारा काम आ सकता है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. अपनी समस्यओं का हल खुद ही ढूँढना पड़ता है

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपकी कविता पढ़कर मन अभिभूत हो गया.......भावपूर्ण अच्छी प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  7. सच है..रहीम के बातें सब सुनते और अमल करते तो कितना अच्छा होता.

    उत्तर देंहटाएं