शुक्रवार, 25 जनवरी 2013

कैसे कोई पढ़े तुम्हारी इस रचना को ?
















                             
                             हे ईश्वर,
                             क्या तुम ही 
                             नित नवी कविता 
                             लिख देते हो 
                             सूरज के किरणों की 
                             कलम बना कर 
                             धरती के कागज पर 
                             रोज सुबह ?

                            पेड़-पौधों में 
                             पंछियों की मधुर 
                             कलरव में 
                             फूलों की लिपि में 
                             जीवन उत्सव के 
                             क्या तुम ही 
                             अर्थ नए
                             रच देते हो 
                             रोज सुबह ?

                              जिसके नैपथ्य में 
                              शब्द कम,गंधवान 
                              मौन अधिक 
                              भर देते हो 
                              कैसे कोई पढ़े 
                              तुम्हारी इस 
                               रचना को ....??

13 टिप्‍पणियां:

  1. बंद आँखों से ..अहसास के नेत्रों से .......बहुत ही सुन्दर रचना सुमनजी ..:)

    उत्तर देंहटाएं
  2. शब्द कम,गंधवान
    मौन अधिक
    भर देते हो

    बहुत सुंदर रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. कैसे कोई पढ़े
    तुम्हारी इस
    रचना को ....??

    सुंदर प्रस्तुति |

    उत्तर देंहटाएं
  4. कैसे कोई पढ़े
    तुम्हारी इस
    रचना को ....??

    उत्तर देंहटाएं
  5. जिसके नैपथ्य में
    शब्द कम,गंधवान
    मौन अधिक
    भर देते हो
    कैसे कोई पढ़े
    तुम्हारी इस
    रचना को ....??

    प्रकृति चक्र पर सचमुच आश्चर्य होता है. सुंदर प्रस्तुति.

    आपको गणतंत्र दिवस पर बढियां और शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  6. कैसे कोई पढ़े
    तुम्हारी इस
    रचना को ....

    बहुत सुंदर अभिव्यक्ति,,,,,,

    गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाए,,,
    recent post: गुलामी का असर,,,

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुन्दर ...गड्तंत्र दिवस की हार्दिक बधाई ...

    उत्तर देंहटाएं
  8. उम्दा प्रस्तुति के लिए बहुत बहुत बधाई...६४वें गणतंत्र दिवस पर शुभकामनाएं...

    उत्तर देंहटाएं
  9. शब्द गौण है
    झूम रही धरा
    मस्त गगन भी
    सुगंधित पुष्प,और
    पंछियों के कलरव में
    सृष्टि की अंगनाई
    आज भरा मौन है

    उत्तर देंहटाएं
  10. प्रकृति के विभिन्न रंगों का बढिया चित्र खींचा है।

    उत्तर देंहटाएं