रविवार, 6 मई 2012

चलने में जो मजा है मंजील में नहीं .......


जीवन में अगर कोई रूचि ना हो तो जीवन नीरस और बोरियत से भरा लगता है ! ऐसे लगता है जैसे जीवन में कोई चैलेन्ज नहीं कुछ नहीं यह भी कोई जीना है भला ? जब रूचि की बात आती है तो, रूचि सबकी अलग-अलग होती है ! किसी को संगीत में रूचि है !किसी को डान्स में रूचि है ! किसी को दूसरों की निंदा करने में रूचि है लड़ाई झगड़े में रूचि है ! किसीको पढाई लिखाई में रूचि है ! मान लीजिये की रूचि का नाम ही जिंदगी है ! मैंने कही पढ़ा था कि, अमेरिका में एक प्रसिद्ध दार्शनिक हुआ था ! नाम था  "जान डैबी" वे भी यही कहा करते थे क़ी जीवन में रूचि का नाम ही जीवन है ! जिस दिन तह रूचि समाप्त हुई समझ लो जीवन ख़तम हुआ ! ओशो कहते है अगर कोई साधक सत्य क़ी खोज पर है, खोज में जो मजा है मंजील में नहीं ! जान डैबी से उनकी नब्बे वी वर्षगाँठ पर उनसे बातचीत करते हुये मित्र ने पूछा कि दर्शन शास्त्र का जीवन में क्या उपयोग है बताओ ? डैबी ने शांतिपूर्वक अपने डाक्टर मित्र से कहा क़ी, दर्शन के अध्ययन से पहाड़ों पर चढ़ाई संभव हो जाती है ! मित्र ने न समझते हुये कहा ......लेकिन पहाड़ों पर चढ़ने से कौन से लाभ है ? डैबी खूब हँसे और बोले क़ि, लाभ यह है क़ि एक पहाड़ के बाद दूसरा फिर तिसरा फिर चौथा ! जब तक यह सिलसिला जारी रहेगा जीवन में चुनौती कायम रहेगी ! और जब तक चुनौती है जीने में आकर्षण है रूचि है ! और जिस दिन यह आकर्षण खो जाता है जीने क़ी रूचि भी समाप्त हो जाती है !

अनछुए पहलुओं पर अच्छेसे अच्छा लिखना सच में एक रायटर को पहाड़ों पर चढने जैसी चुनौती है ! पता नहीं कब कैसी प्रतिक्रिया मिले कब माहोल ख़राब हो कहा नहीं जा सकता ! बहुत बार लिखने की रूचि बन बिगड़ रही है ! एक न एक दिन हम सबको यहाँ से विदा होना ही है किन्तु जब तक यहाँ पर है यक़ीनन एक सुखद यात्रा रहेगी !

15 टिप्‍पणियां:

  1. मंजिल पाने के लिए जो चलने में मजा है मंजील में नहीं .....

    बहुत अच्छी प्रस्तुति,....
    RECENT POST....काव्यान्जलि ...: कभी कभी.....

    उत्तर देंहटाएं
  2. हाँ....मंजिल से ठहराव का भान जो होता है.......

    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुन्दर आलेख!...एक लक्ष्य हासिल करने के बाद,दूसरा लक्ष्य सामने होना ही चाहिए!...तभी जीने का लुफ्त आप उठा सकतें है!..आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत अच्छी प्रस्तुति,

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत खूब ! सुन्दर प्रस्तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपका कहना सही है ... चलते रहने मे उम्मीद है मंजिल् पे पहुंचकर तो विश्राम है ...

    उत्तर देंहटाएं
  7. मज़े की बात यह है कि मंज़िल पर बने रहने के लिए भी चलना पड़ता है!

    उत्तर देंहटाएं
  8. अपनी इस सुन्दर रचना की चर्चा मंगलवार ८/५/१२/ को चर्चाकारा राजेश कुमारी द्वारा चर्चा मंच पर देखिये आभार

    उत्तर देंहटाएं
  9. बिना चुनौती के जीवन का कोई मतलब ही नहीं है।

    उत्तर देंहटाएं
  10. जीवन को गतिमान बनाये रखते ही हमारी कोशिशें ....बहुत सुंदर

    उत्तर देंहटाएं
  11. सच है! किसी ने कहा था, "ये जीवन हमारा निरंतर सफ़र है, जो मंज़िल पे पहुँचे तो मंज़िल बढा दी।"

    उत्तर देंहटाएं