बुधवार, 25 सितंबर 2013

आज मॉर्निंग वाक पर !

इन दिनों सतीश जी का लिखने का उत्साह देखकर कितना अच्छा लगता है न एक मन ने कहा , एक के बाद एक नायाब शेर लिख मार रहे है ! और ताऊ जी  हर दुसरे दिन एक पोस्ट लिखने वाले पता नहीं इन दिनों कहाँ ग़ायब से हो गए है लगभग तीन हफ्ते से एक भी नई पोस्ट नहीं आयी उनकी !ब्लोगिंग के अलावा भी कितने सारे काम होते है किसी काम में व्यस्त होंगे दुसरे मन ने कहा  ! रश्मि प्रभा जी ने भी लिखना कितना कम कर दिया है ! संगीता जी भी पंधरा दिन को एक पोस्ट लिखती है ! रमण जी तो महीने में कभी एखाद पोस्ट डालते है अपने ब्लॉग पर, कुछ मित्रों की वजह से जो रौनक दिखाई देती है हमारे ब्लॉग जगत में पता नहीं क्यों आजकल कुछ सुना -सुना सा लग रहा है टहलते टहलते अचानक मेरे इन विचारों को ब्रेक सा लगता है, मेरे बाजू से जीतनी तेजी से मिसेज वर्मा और मिसेज शर्मा वाकिंग करते  हुए गुजर रही थी उतनी ही तेजी से आपस में टॉकिंग कर रही थी न चाहते हुए भी उनकी बाते मेरे कान में पड़ ही गई  … !

 मिसेज वर्मा मिसेज शर्मा से पूछ रही थी जो की दोनों अच्छी दोस्त भी है   । "लगता है आज अकेली ही आयी हो ? शर्मा जी नहीं आए टहलने क्या बात है ? पता नहीं तुम वर्मा जी को रोज सुबह टहलने कैसे ले आती हो ? मुझे इनको जगाने में बड़ी दिक्कत होती है "! सहेली की बात सुनकर वर्मा साहब की मिसेज ने कहा  … "वो भी कहाँ अपने आप जागते है मुझे जबरदस्ती जगा कर लाना पड़ता है आखिर घर के साथ साथ मुझे उनकी बढती तोंद का भी ख्याल रखना पड़ता है "! मै तो रोज सुबह उनको जगाने के लिए एक तरकीब अपनाती हूँ क्यों न तुम भी वह तरकीब अपनाओ ! कौन सी तरकीब ?सहेली ने पूछा ! मेरी जो पालतू बिल्ली है न मै उस बिल्ली को मजे से सो रहे अपने पति पर फेक देती हूँ ! लेकिन बिल्ली फेकने से कैसे कोई उठता है ?सहेली का मासूम सा प्रश्न सुन कर वर्मा साहब की मिसेज ने कहा   "उठना ही पड़ता है,क्योंकि वो अपने कुत्ते के साथ सोते है उनके कुत्ते और मेरी बिल्ली में जब घमासान युद्ध छिड़ता है अपने आप उठ कर टहलने आ जाते है बड़ा लाभदायक तरीका है आजमा कर देख लेना कल "! 

फिर उनकी बाते मेरे कान की पहुँच से बहुत दूर होती गई      ….! क्या मिसेज शर्मा  अपने सहेली की बतायी हुयी तरकीब अपनायेंगी कल ? क्या मॉर्निंग वाक् पर शर्मा जी टहलने आ जायेंगे ? आपके साथ साथ मुझे भी उत्सुकता है कल के सुबह की  … !

18 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल गुरुवार (26-09-2013) को "ब्लॉग प्रसारण : अंक 128" पर लिंक की गयी है,कृपया पधारे.वहाँ आपका स्वागत है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. हमने किसका,मुंह देखा था, सुबह सवेरे उठते ही !
    आज न जाने कहाँ से चल के,नारायण घर आये हैं !

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपने सही कहा ! इन दिनों सतीश जी के लिखने का उत्साह मुझे लिखने को प्रेरित करता है,

    नई रचना : सुधि नहि आवत.( विरह गीत )

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपकी यह प्रस्तुति 26-09-2013 के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  5. कुत्ते और बिल्ली के रूप में संसार को भलिभांति अभिव्यक्त किया है. दोनों अति निकट रहते हुये भी विपरीत ध्रूवों के स्वभाव वाले हैं. यदि कुत्ते बिल्ली की लडाई समझ आ जाये तो जीवन समझ आजाये. मन के द्वंद को बहुत ही सुगमता से अभिव्यक्त किया है, शुभकामनाएं.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  6. सतीश जी स्वस्फ़ूर्त कवि हैं, उनकी सामान्य बोलचाल में ही यह सत्य अभिव्यक्त होता है. हमारी गैरमोजूदगी में वो निरंतर लिख रहे हैं यह उत्साहजनक है.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  7. कुछ आवश्यक कार्य की वजह से अपने शहर से दूर हूं, अभी सिर्फ़ टिप्पणियां ही कर पा रहा हूं वो भी देर से. आभार.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत आभार ताऊ जी,
      आपको ब्लॉग पर सक्रीय करने का बहाना मात्र है यह पोस्ट !
      आपके लौटने का इंतजार रहेगा :)
      सादर !

      हटाएं
  8. खुबसूरत रचना
    कभी यहाँ भी पधारें।
    सादर मदन
    http://saxenamadanmohan1969.blogspot.in/
    http://saxenamadanmohan.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं
  9. थोडा और काम में बिजी हूं, इसलिए समय नहीं निकाल पा रहा हूं। यही वजह कि कुछ आराजक तत्व अपनी मनमानी कर रह हैं।

    हाहाहहाहाहहा, कैसे मजा आएगा। बेचारे ब्लागर ठगे गए, जितना खर्च हो गया, उसके हिसाब से मिला कुछ नहीं।
    दो चार ब्लागरों के टुटपुंजिया अखबारों में संपर्क है, तो वो अपना नाम वहां छपवाकर वाहवाही लूट रहे हैं, बाकी बेचारे निराश हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  10. रोचक प्रसंग...फिर क्या हुआ अगले दिन....!!!

    उत्तर देंहटाएं
  11. निगाहें तो देख लीन ... अब निशाना कहां था ये देखना बाकी है बस ...
    मस्त रोचक पोस्ट ...

    उत्तर देंहटाएं
  12. अच्छा हो कि लोगबाग कुत्ते-बिल्लियों को घर छोड़कर ही मॉर्निंग वाक पर निकलें। मॉर्निंग वाक का मतलब है-मैं हूं और प्रकृति है।

    उत्तर देंहटाएं