मंगलवार, 17 सितंबर 2013

ताजी चौकाने वाली खबर यह भी है …

दिन जो की 
कल भी वही था 
आज भी वही है 
जो कल आयी थी 
वही तो सुबह है !
हाथ में फीकी 
चाय की प्याली 
साथ में अख़बार 
अख़बार में वही 
बासी खबरे है !
भ्रष्टाचार,कालाबाजारी 
भ्रष्ट अफसर बेईमान नेता 
बाबाओं के वही सब 
काले चिट्टे कारनामे है !
नई सुबह में ऐसी 
क्या खास बात है ?
आम आदमी को प्याज 
कल भी रुलाता था 
आज भी रुला रहा है 
महिलाओं पर अत्याचार 
कल भी होते थे 
आज भी हो रहे है  !
ज्योति बुझाने वालों को 
क्या हक़ बनता है 
उजालों में रहने का ?
नाबालिग अपराधी को 
तीन साल की सजा ?
इस फैसले के दुसरे 
या तीसरे दिन से ही 
नाबालिग बलात्कारियों की 
संख्या में अचानक वृद्धि 
हुई है !
बासी ख़बरों के साथ-साथ 
आज की ताज़ी चौंकाने वाली 
खबर यह भी है  … !!

15 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल गुरुवार (19-09-2013) को "ब्लॉग प्रसारण : अंक 121" पर लिंक की गयी है,कृपया पधारे.वहाँ आपका स्वागत है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुंदर भावनायें और शब्द भी …बेह्तरीन अभिव्यक्ति …!!शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  3. बस वही पीडाएं बारबार, बहुत सशक्त अभिव्यक्ति.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  4. बस यही अन्याय और अत्याचार की खबरें ही है,,
    विकास की ,परिवर्तन की खबरें तो महज सोच में रह गयी है..
    यथार्थ कहती रचना..

    उत्तर देंहटाएं
  5. कितने मजबूर हैं हम..कडवी सच्चाई

    उत्तर देंहटाएं
  6. क़ानून में तुरंत बदलाव की ज़रूरत है. वह निर्णय किताब के हिसाब से ठीक हो लेकिन सब जानते है की वह कही से भी न्याय नहीं है. सुन्दर अभिव्यक्ति.

    उत्तर देंहटाएं
  7. यथार्थ का बयां करती अच्छी रचना |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  8. आपके विचारों की दूरदर्शिता सबके लिए विचारणीय है ...कुछ ऐसा ही परिणाम होगा

    उत्तर देंहटाएं
  9. प्रतिदिन की सुबह का उत्तम चित्रण । हां यह बात अलग है किसी के पास मीठी और किसी के पास फीकी चाय होती है

    उत्तर देंहटाएं
  10. अरे फीकी चाय क्यों पी रही हैं ,हम यहाँ मेहनत किसके लिए कर रहे हैं?अगर अखबार की खबरें चाय को फीका कर दे रहि हैं तो बात अलग है ,मान लीजिए कि कलियुग आ गया है.
    वैसे कविता सोचने पर विवश कर रही है

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. अजी चाय कौन फीकी पीता है :) ? हम तो ध्यान के साथ जोड़ देते है हर चीज को,
      वैसे सही कहा है अख़बार की खबरे सुबह सुबह मीठी चाय को भी फीका कर देते है !
      आभार टिप्पणी के लिए आयेंगे आपके ब्लॉग पर बस कुछ देर में :)

      हटाएं
  11. आप की इस प्रविष्टि की चर्चा कल {बृहस्पतिवार} 26/09/2013 को "हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल {चर्चामंच}" पर.
    आप भी पधारें, सादर ....राजीव कुमार झा

    उत्तर देंहटाएं
  12. यथार्थ का बयां करती अच्छी रचना |

    उत्तर देंहटाएं