शुक्रवार, 9 नवंबर 2012

जैसे नभ में छिड़की कुंकुम लाली ....


रुनझुन-रुनझुन 
ज्योति की 
पायल बजी 
जागा प्रभात 
जैसे नभ में छिड़की कुंकुम लाली 
जगमग-जगमग आयी है दिवाली !

आंगन-आंगन 
सजी रंगोली 
बंधी तोरण 
द्वार -द्वार 
फूल मालाओं की झालर न्यारी 
जगमग-जगमग आयी है दिवाली !

मनभावन अल्पना 
रंग रंगोली 
प्रांगण सुचित्रित 
लगती प्यारी 
सुख बन, सुषमा बन घर भर छायी 
जगमग-जगमग आयी है दिवाली !

तम की विकट 
निशा बीती 
चिर-सत्य की 
विजय हुई 
दिगदिगंत के छोर तक गूँजी  जयभेरी 
दीप जले खुशियों के आलोक वृष्टी चहूँ ओर हुई !!

9 टिप्‍पणियां:

  1. बढिया जानकारी , दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि-
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (11-11-2012) के चर्चा मंच-1060 (मुहब्बत का सूरज) पर भी होगी!
    सूचनार्थ...!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत आभारी हूँ आपकी !

      हटाएं
  3. दीपावली की अनेक शुभ कामनाएं आपको और आपके परिवार को ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर, अच्छी रचना

    धनतेरस की बहुत बहुत शुभकमानएं

    एक नजर मेरे नए ब्लाग TV स्टेशन पर डालें

    http://tvstationlive.blogspot.in/2012/11/blog-post_10.html?spref=fb

    उत्तर देंहटाएं
  5. सौहाद्र का है पर्व दिवाली ,

    मिलजुल के बनाए दिवाली ,

    कोई घर रहे न रौशनी से खाली .

    हैपी दिवाली हैपी दिवाली .

    तम की विकट
    निशा बीती
    चिर-सत्य की
    विजय हुई
    दिगदिगंत के छोर तक गूँजी जयभेरी
    दीप जले खुशियों के आलोक वृष्टी चहूँ ओर हुई !!

    बढ़िया विवरण प्रधान रचना

    उत्तर देंहटाएं
  6. क्या लिखें भाई ,ये तो हर दिल की कामना है

    उत्तर देंहटाएं