सोमवार, 20 जून 2011

सर्द हवाएँ कुछ यूँ कहने लगी है ठंडे-ठंडे स्पर्श से ...........

मानसून के आते ही, सर्द हवाएँ बहने लगी है ! नभ में आषाढ़ के मेघ घिरने लगे है ! पुरवाई के हर झोंके में एक अपरमित उल्हास भरा हुआ है ! नभ से लेकर धरती तक जन-जीवन बारिश के नैसर्गिक आनंद में डुबने लगा है ! मौसम कुछ-कुछ गुलाबी होने लगा है !
                 सर्द हवाएँ  कुछ यूँ
                 कहने लगी है
                ठंडे-ठंडे स्पर्श से
                तन-मन भिगोने लगी है !
  बारिश में बच्चों को भीगना, कागज की नाव बनाकर आसपास के जमे हुए पानी में उनको तैराना बहुत अच्छा लगता है ! आंगन में रिमझिम बरखा बरस रही हो,आपने घर के सब खिड़की, दरवाजे बंद कर दिए हो, ताकि बच्चों के स्कूल
के होमवर्क में कोई व्यवधान न पड़े ! किन्तु आंगन में ,
जोरजोरसे बरसती बरखा का शोर बच्चों को बाहर आने के लिए निमंत्रण ही दे
रही है ! ऐसे में स्कूल का होमवर्क कैसे होगा भला ? आखिर कर
लाडली बिटिया ने अपनी मम्मी से कह ही दिया ........

                 ममा छोड़ो होमवर्क कल कर लुंगी
                 ऐसी रिमझिम जाने फिर कब होगी
                 छम-छम पानी में खेलूंगी
                 मुखड़े पर मोती झेलूंगी
                 भोली-सी नादानी करने दो
                 मम्मी बारिश में जाने दो !
वैसे भी आजकल के बच्चे हमेशा टी.वी., कंप्यूटर से चिपके रहते है ! आज कुछ बारिश में भीगने का मजा लुटने दीजिये उनको! आसमान में उमड़ते घटाओं को देखकर किसी के भी मन में हिलोर उठना स्वाभाविक है ! छमा-छम बारिश हो,चारोओर खुशगवार नज़ारे हो, ऐसे में हर चीज शराबी सी लगने लगती है !किसी कवि ह्रदय पति का मन भी रूमानी हो गया है ! अपने पत्नी के साथ छतपर बारिश में भीगने का आनंद लेना चाहता है,वह है की घर-गृहस्थी  के कामो में उलझी है !
                 छोड़ो भी काम गृहस्थी के
                 जैसे भी हो आओ छत पर
                 देखो तो क्या यौवन उमडा
                 मेघो वाली अल्हड रुतु पर
                 जामुनी घटा घिर आई है
                 पछुआ ने लट बिखराई है
                 बूंदे तिर आयी नयनों में इन बूंदों की अगवानी मे
                 हम दोनों साथ भीगे बरखा के पहले पानी में !
ऐसे कविहृदय पति बहुत कम होते है ! इसबार उनकी ओर से ऐसा कोई निवेदन आये तो झट से मान लीजिये ! दूर देश में रहने वाला प्रियतम अपनी प्रेयसी के मन में अपने यादोंकी बहुत सारी सौंधी-सौंधी महक छोड़ गया है ! जो बारिश के इस मौसम में उसकी याद बनकर उमड़ रहे है ! अपने घर की बालकनी में प्रिय के विरह में उदास सी खड़ी बारिश से मन बहलाने की कोशिश कर रही है ! रिमझिम बरसती बूंदों ने, काली -काली घटाओं ने, मदमस्त बहती हवाओं ने उसके मन को बहलाने की खूब कोशीश की पर सब व्यर्थ.......
                 प्यार से भीगा गगन है
                 दर्द से भीगा हुआ ये मन है
                  बरसे बरखा रिमझिम-रिमझिम
                  आज नयन भी खूब बरसे
                  रिमझिम-रिमझिम!
बारिश के इस सुहाने मौसम में कविताओं से भीगी हुई यह रचना, किसी के यादों की बारिश बन कर आप सब के अंतर तक को भिगोये बस यही कामना है! 

          (छोड़ो भी काम गृहस्थी के..... ओशो साहित्य से साभार)

21 टिप्‍पणियां:

  1. प्यार से भीगा गगन है
    दर्द से भीगा हुआ ये मन है
    बरसे बरखा रिमझिम-रिमझिम
    आज नयन भी खूब बरसे
    रिमझिम-रिमझिम!
    hamesha ki tarah sundar bhavabhivyakti .badhai suman ji.

    उत्तर देंहटाएं
  2. ममा छोड़ो होमवर्क कल कर लुंगी
    ऐसी रिमझिम जाने फिर कब होगी
    छम-छम पानी में खेलूंगी
    मुखड़े पर मोती झेलूंगी
    भोली-सी नादानी करने दो
    मम्मी बारिश में जाने दो !

    प्यारी मनुहार ..... सुंदर मन को भिगोती पोस्ट

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपने वर्षा ऋतू का बड़ा मधुर स्वागत किया है !
    हार्दिक शुभकामनायें आपको !

    उत्तर देंहटाएं
  4. बरसात पर किसी का एक प्यारा सा शेर याद आ रहा है,आप भी देखिये:-
    मज़ा बरसात का चाहो तो इन आँखों में आ जाओ,
    वो बरसों में बरसती है ये बरसों से बरसती है.

    उत्तर देंहटाएं
  5. क्या बात है, लग रहा है बरसात का मौसम आ गया।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बारिश की फुहारों से अलग अलग परिस्थिति को दर्शाती मनभावन पोस्ट ..

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुमन जी आपने तो हर एक के लिए बरसात के मायने समझा दिए | बहुत अच्छी रचना आभार

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुहाने मौसम में कविताओं से भीगी हुई प्रस्तुति ने भावों से सराबोर कर दिया...बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  9. आपकी पोस्ट आज के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें
    चर्चा मंच

    उत्तर देंहटाएं
  10. बाहर बरखा की फुहार छूट रही है | ऐसे में आपका लेख पढ़ कर आनंद आया |

    उत्तर देंहटाएं
  11. suman ji
    bahut sundar ,bahut bahut hi badhiya prastuti .
    aapne to sachmuch sabko barish ki rim-jhimati fuhaar se bhigo sa diya .
    ek baar fir badhai
    poonam

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत समय हो गए बारिश में भीगे। इंद्रधनुष देखे तो ज़माना बीत गया।

    उत्तर देंहटाएं
  13. सुन्दर रचना के लिए बधाई !
    मेरी नयी पोस्ट पर आपका स्वागत है : Blind Devotion - सम्पूर्ण प्रेम...(Complete Love)

    उत्तर देंहटाएं
  14. सुमन जी,आपने तो तन मन भिगो दिए हैं रिमझिम रिमझिम बरसात करके अपनी इस बेहतरीन पोस्ट पर.वाह! आनंद आ गया.
    सुन्दर प्रस्तुति के लिए बहुत बहुत आभार.

    मेरे ब्लॉग पर आईयेगा.आपका हार्दिक स्वागत है.

    उत्तर देंहटाएं
  15. वर्षा ऋतू के स्वागत का सुन्दर अंदाज .

    उत्तर देंहटाएं
  16. किधर से शुरू करून, किधर से ख़तम करून |
    जिन्दगी का फ़साना, कैसे तेरी नज़र करून |
    है ख्याल जिन्दगी का, कैसे मुनव्वर करून |
    मगरिब के जानिब खड़ा, कैसे तसव्वुर करून |

    उत्तर देंहटाएं
  17. आप का बलाँग मूझे पढ कर आच्चछा लगा , मैं बी एक बलाँग खोली हू
    लिकं हैhttp://sarapyar.blogspot.com/

    मै नइ हु आप सब का सपोट chheya
    joint my follower

    उत्तर देंहटाएं