बुधवार, 6 जुलाई 2011

चली आओ तुम मेरी कविता ........

आज फिर तुम लिये
उन सारी मीठी
यादों की मधुर
स्मृति मतवाली
घोल-घोल कर
मलय पवन में,
रजनीगंधा-सी
मन को महकाने
चली आओ तुम
मेरी कविता !
कैसी छायी है
निराशा मनपर
छायी है उदासी
डरा रही मुझको
मेरी ही तनहाई
प्रिय सखी-सी
मुझको बहलाने
दबे-पाँव चली
आओ तुम
मेरी कविता !
जीवन की
रिक्त पाटी पर
इन्द्रधनुषी रंग भरने
जब-तब मेरे घर
चली आओं
तुम मेरी कविता !

16 टिप्‍पणियां:

  1. आप का बलाँग मूझे पढ कर आच्चछा लगा , मैं बी एक बलाँग खोली हू
    लिकं हैhttp://sarapyar.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  2. कैसी छाई है
    निराशा मनपर
    छायी है उदासी
    डरा रही मुझको
    मेरी ही तनहाई
    प्रिय सखी-सी
    मुझको बहलाने
    दबे-पाँव चली
    आओ तुम
    मेरी कविता !


    बहुत सुंदर,
    हर बार की तरह एक ओर अच्छी रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  3. "जब-तब मेरे घर
    चली आओं
    तुम मेरी कविता!"

    निश्चल कामना - बहुत सुंदर

    उत्तर देंहटाएं
  4. "जब-तब मेरे घर
    चली आओं
    तुम मेरी कविता!"


    Bahut Sunder Abhivykti...

    उत्तर देंहटाएं
  5. मुझको बहलाने
    दबे-पाँव चली
    आओ तुम
    मेरी कविता !
    सुमन जी, आज तो नये अंदाज में बहुत सुंदर अभिव्यक्ति बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  6. कविता पढ़ते पढ़ते कविता का स्मरण हो आया. :)

    उत्तर देंहटाएं
  7. ati sunder.
    are ye to chupke se mere aangan bhee chalee aaee.

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर रचना...अच्छे शब्द और भाव का अद्भुत संगम...बधाई स्वीकारें

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  9. कविता के कोमल मन में किसी का दिख जाना .. कविता का सार्थक हो जाना ...

    उत्तर देंहटाएं
  10. जीवन की
    रिक्त पाटी पर
    इन्द्रधनुषी रंग भरने
    जब-तब मेरे घर
    चली आओं
    तुम मेरी कविता !


    शब्द-शब्द संवेदनाओं से भरी सुन्दर रचना ....

    उत्तर देंहटाएं