बुधवार, 27 मई 2015

वाह रे रिश्तेदार ...

जिंदगी भर
जिनकी पीठ पीछे
बुराई करने वाले
आज अचानक
शवयात्रा में उनकी
अच्छाईयों की चर्चा
कर रहे थे बार-बार
वाह रे रिश्तेदार !
इसे ही कहते है
जीवित का निरादर
मुरदे का सम्मान … !

6 टिप्‍पणियां:

  1. ऐसा ही होता है और यह कटु सत्य भी है...

    उत्तर देंहटाएं

  2. .बेह्तरीन अभिव्यक्ति ...!!शुभकामनायें. कुछ अपने विचारो से हमें भी अवगत करवाते रहिये.

    उत्तर देंहटाएं
  3. ऐसे लोग शायद डर जाते हैं अपने किये पर ...
    बहुत ही सहज लिख दिया इस कडुवे सच को आपने ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. कटुता से भरा सत्य

    यहाँ भी पधारें
    http://chlachitra.blogspot.in/

    http://cricketluverr.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं