शनिवार, 29 मार्च 2014

एक अप्रैल याने की मूर्ख दिवस …

एक अप्रैल हर साल मूर्ख दिवस के रूप में मनाया जाता है ! यूँ तो एक अप्रैल याने की मूर्ख दिवस पश्चिम देशों का त्यौहार है लेकिन अब तो भारत ही नहीं पूरी दुनिया ने इस त्यौहार को दिल से अपना लिया है ! ओशो प्रेमी इस दिन को मुल्ला नसरुद्दीन दिवस के रूप में मनाते है और मुल्ला नसरुद्दीन के चुटकुलों का भरपूर स्वाद लेते है सबका मनोरंजन करते है ! मूर्ख दिवस के अलग-अलग देशों में अलग अलग मान्यताएं, किस्से, कहानियाँ प्रचलित है लेकिन हमारे यहाँ तो रोज की पति-पत्नी की बाते हो या बच्चों की बाते या फिर नेताओं की बाते हो इन शुद्ध देसी दैनंदिन हास्य पूर्ण बातों  का एक अलग ही मजा अलग ही स्वाद होता है ! पति चाहे कितनी ही बड़ी  पोस्ट पर क्यों न हो दुनिया के लिए वह कितना ही बुद्धिमान क्यों न हो लेकिन हर पत्नी की नजर में तो उसका पति घर में मूर्ख, बेवकूफ ही बना रहता है ! और वह नाते रिश्तेदारों में, आस पड़ोस में, सखी सहेलियों में बतियाते एक भी ऐसा मौका नहीं गंवाती उसे मूर्ख साबित करने का ! बेचारा पति हमेशा चुप रहने में ही अपनी भलाई समझता है यह सोचकर कि कौन इस मूर्ख औरत के मुँह लगे ! इसी तरह एक दूसरे को मूर्ख समझने में साबित करने में ही उम्र तमाम बीत जाती है !  

बड़े तो बड़े हमारे बच्चे भी कुछ कम नहीं होते, अभी कल की ही बात है मै अपनी सहेली के साथ उसके घर पर शाम की चाय के साथ गप-शप कर रही थी , पास में उसकी बहु अपने बेटे बंटी को हिंदी का गृह कार्य करा रही थी बंटी की मम्मी ने कहा "बेटे शेर और बिल्ली का वाक्य में प्रयोग करो तो " आपको पता है बंटी ने क्या लिखा उसकी कॉपी में  ?… "पापा जब ऑफिस से घर आते है तो बिलकुल शेर की तरह आते है और घर में बिल्ली की तरह प्रवेश करते है " अब क्या बताएं हंस हंस कर मेरा तो बुरा हाल हुआ था !   

राजनीति में तो आजकल होड़ सी लगी है जनता को मूर्ख बनाने की, हर कोई नेता एक दूसरे को मूर्ख बता कर जनता को कैसे मूर्ख बनायें वोट कैसे बटोरे कुर्सी तक कैसे पहुंचे यही सोच कर कोई मुफ्त की चाय पिला रहा है कोई भाषण पिला रहा है मकसद सिर्फ सेवा की आड़ में मेवा खाना और क्या ! एक नेता चुनावी सभा में जनता को समझा रहे थे ! लेकिन जनता ने बड़ी हुड़दंड मचाई हुई थी हो-हल्ला होने लगा ! नेताजी ने नाराज हो कर गुस्से से कहा  … "लगता है इस सभा में सारे मूर्ख गधे इकट्ठे हो गए है ! क्या अच्छा नहीं होगा कि एक बार में एक ही बोले ?? तभी सभा में से किसी व्यक्ति की आवाज आयी "ठीक है तब आप ही शुरू कीजिये !   

मूर्ख दिवस की एक यह भी विशेषता होती है की इस दिन मूर्ख से मूर्ख भी रसिक बनकर जीवन का रस लेने लगता है हंसना हंसाना एकमेव उद्देश होता है न की किसी के मन को ठेस पहुँचाना ! अब चारो ओर से मूर्खों से घिरा कोई खुद को बड़ा बुद्धिमान समझता हो तो उससे बड़ा मूर्ख और कोई हो सकता है क्या, नहीं न ??

10 टिप्‍पणियां:

  1. हाँ एक ही दिन तो होता है मेरा भी :)

    आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. समझदार लोग सच्चाई को जल्दी स्वीकार कर लेते है :)
      आभार आपका !

      हटाएं
  2. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर.अब तो लोग दूसरों पर व्यंग्य कर हंसने का प्रयास करने लगे हैं.मुक्त हास्य की कमी हो गई लगती है.
    नई पोस्ट : हंसती है चांदनी
    नई पोस्ट : सिनेमा,सांप और भ्रांतियां

    उत्तर देंहटाएं
  4. अपनी मूर्खता ओए हंसना ही आसान काम नहीं ... साल में एक बार ऐसा नहीं भी हो सके तो कर लेना चाहिए ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. हँसते हँसते जीवन की वास्तविकता का परिचय करा दिया आपकी इस पोस्ट ने हम सब जीवन भर खुद को विद्वान् साबित करने में लगे रहते हैं और खुद की मूर्खताएं नहीं समझ पाते !
    आभार सुमन जी !

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत ही सुन्दर और मनोरंजक दैनन्दिन घट नाएं आपने हमारे संग बाँटीं हैं मुल्ला नसरुद्दीन दिवस पर. मुल्ल नसरुद्दीन के सैकड़ों चुटकुलों का जिस प्रकार ओशो ने प्रयोग किया है, उसे देखकर लगता है कि वर्ष का एक दिन ही नहीं हर दिन महामूर्ख दिवस है! आपको भी इस दिवस पर हँसी और मनोरंजन की फुलवारी मुबारक हो!!

    उत्तर देंहटाएं