बुधवार, 1 जनवरी 2014

कभी फुरसत से फुरसत में आना … !

पेड़-पौधे जागे 
सुबह-सुबह 
फुरसत से 
फुरसत में, 
पंछियों ने मधुर 
गीत गाये 
सुबह-सुबह 
फुरसत से 
फुरसत में, 
कलि-कुसुमों पर 
भौरे इतराये 
सुबह-सुबह 
फुरसत से 
फुरसत में,
आज तन-मन 
व्यस्त है 
जग के 
कोलाहल में 
मस्त नहीं है 
कविता, 
तू भी फुरसत 
का तराना है 
इसलिए,आज नहीं 
कभी फुरसत से 
फुरसत में 
चली आना 
कोई मीठा 
गीत सुनाने
आज फुरसत 
नहीं है    … ! 
यह सच है 
साथ तुम्हारा 
मन को भाता 
साथ तुम्हारा 
थकान मिटाता 
किन्तु अक्सर 
ऐसा क्यों नहीं 
हो पाता    … ??

16 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लिखी रचना शनिवार 04/01/2014 को लिंक की जाएगी...............
    http://nayi-purani-halchal.blogspot.in
    कृपया पधारें ....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर !
    नववर्ष शुभ हो मंगलमय हो !

    उत्तर देंहटाएं
  3. दिल ढूंढता है फुर्सत के रात दिन.....
    बहुत बढ़िया रचना ..

    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  4. उसको भी तो चाहियें कुछ पल फुरसत के ...
    बढ़िया रचना ... नव वर्ष की मंगल कामनाएं ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुंदर रचना ....नववर्ष की मंगलकामनाएं ....

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर रचना.
    नव वर्ष की शुभकामनाएँ !!
    नई पोस्ट : नींद क्यों आती नहीं रात भर

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति ...!
    नव वर्ष की हार्दिक बधाई और शुभकामनाए...!
    RECENT POST -: नये साल का पहला दिन.

    उत्तर देंहटाएं
  8. बरसों से नींद न आयी , जग की चिंता में
    तुम माँ बन मुझे सुलाओ तो,सो सकता हूँ

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत सुंदर----
    उत्कृष्ट प्रस्तुति
    नववर्ष की हार्दिक अनंत शुभकामनाऐं----

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत ही सारगर्भित रचना, शुभकामनाएं.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  11. सुन्दर भावपूर्ण प्रस्तुति.

    शुभकामनाएँ

    उत्तर देंहटाएं
  12. वाह...बहुत बढ़िया प्रस्तुति...आप को मेरी ओर से नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं...

    नयी पोस्ट@एक प्यार भरा नग़मा:-कुछ हमसे सुनो कुछ हमसे कहो

    उत्तर देंहटाएं
  13. मैं फुर्सत से आया और फुर्सत से पढ़ा. अच्छा लगा.

    उत्तर देंहटाएं
  14. कभी कभी कविता के यूँ ही अचानक आ जाने से ही अछे कविता बन जाती है और कभी तो मान मनोव्वल की बाद भी रूठना जारी रहता है :)

    उत्तर देंहटाएं