बुधवार, 9 अक्तूबर 2013

कही विद्रोह न कर दे नारी ….

मत पसारे हाथ अपने 
किसी के भी सामने 
दया के लिए वह 
चाहती हूँ  आज 
हर घर -घर में 
नारी सक्षम 
होनी ही चाहिए  
तभी ,
सही मायने में 
नवरात्रि  का उत्सव 
शक्ति की पूजा 
सार्थक कहलाएगी  !
लेकिन गाँव,कस्बों में 
आज भी 
विद्या से वंचित है 
सरस्वती 
पैसे -पैसे के लिए 
मोहताज है
 लक्ष्मी 
दुर्बल कितनी ही 
है  गौरी , दुर्गा 
सबके खाने पर 
बचा खुचा खाती है 
अन्नपूर्णा  आज भी ,
जानती हूँ उनका डर 
पढ़, लिखकर 
आत्मनिर्भर बन कर 
उनके नियमों के खिलाफ 
कही विद्रोह 
न कर दे  नारी   … 

15 टिप्‍पणियां:

  1. बेहद खूबसूरत रचना है , नवदुर्गा पूजन पर समाज पर एक बढ़िया चोट की है , आभार ओर बधाई आपको !

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (11-10-2013) को " चिट़ठी मेरे नाम की (चर्चा -1395)" पर लिंक की गयी है,कृपया पधारे.वहाँ आपका स्वागत है.
    नवरात्रि और विजयादशमी की हार्दिक शुभकामनायें ओर बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुन्दर प्रस्तुति-
    आभार आदरणीया-
    नवरात्रि / विजय दशमी की शुभकामनायें-
    (१५ दिन की छुट्टी पर हूँ-सादर )

    उत्तर देंहटाएं
  4. नारी की शक्ति कौन नहीं जानता......
    बहुत ही सार्थक रचना है दी....
    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर प्रस्तुति.. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी पोस्ट हिंदी ब्लॉग समूह में सामिल की गयी और आप की इस प्रविष्टि की चर्चा - शुक्रवार - 11/10/2013 को माँ तुम हमेशा याद आती हो .... - हिंदी ब्लॉग समूह चर्चा-अंकः33 पर लिंक की गयी है , ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया पधारें, सादर .... Darshan jangra


    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सटीक लिखा, यथार्थ में कुछ करना होगा. हार्दिक शुभकामनाएं.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  7. सच्चाई लिख दी है आपने. पिछले बरस गाँव गया था तो देखा कि कुछ भी बदला नहीं इतने सालों में.

    उत्तर देंहटाएं
  8. मन के उदद्गार कब क्रियान्वित होंगे नहीं पता ... यथार्थ कहती रचना

    उत्तर देंहटाएं
  9. आज के समाज पर सार्थक और सटीक बेहद खूबसूरत रचना रचना , बधाई आपको !
    नवरात्रि की शुभकामनाएँ ...!

    RECENT POST : अपनी राम कहानी में.

    उत्तर देंहटाएं
  10. सामयि‍क रचना...नारी अब बने दुर्गा

    उत्तर देंहटाएं
  11. पढ़, लिखकर
    आत्मनिर्भर बन कर
    उनके नियमों के खिलाफ
    कही विद्रोह
    न कर दे नारी ---------


    नवरात्र की हार्दिक शुभकामनायें
    बहुत सुंदर और सार्थक रचना
    सादर

    आग्रह है-
    पीड़ाओं का आग्रह---

    उत्तर देंहटाएं
  12. अब तो नारी को ये विद्रोह करना ही होगा ... वर्ना अती बडती जाएगी ..
    दशहरा की मंगल कामनाएं ...

    उत्तर देंहटाएं