शुक्रवार, 30 मार्च 2012

जीवन को सफ़ल बनाऊँ कैसे



                     तू आज बता दे फूल मुझे
                     मैं तुझ-सी खिल पाऊँ कैसे...


                     तेरे जीवन-पथ पर, बिछे हैं कांटे
                     फिर भी उर में मुस्कान समेटे
                     पल-पल हवा के झोंके-से
                     खुशबू जग में 
बिखेरता है तू
                     तुझ जैसी खुशबू बिखराकर


                     जीवन को महका
ऊँ  कैसे
                     में तुझ सी खिल पा
ऊँ  कैसे...
                                                

                     सुबह को खिलता, साँझ मुरझाता
                     मंदिर मजार पर बलिदान
 चढ़ाता 
                     कितना सफ़ल है जीवन तेरा
                     मुझको खलती मेरी नश्वरता
                     तुझ जैसा बलिदान चढाकर


                     जीवन को सफ़ल
 बनाऊँ कैसे...
                     मै तुझ-सी खिल पा
ऊँ  कैसे...

16 टिप्‍पणियां:

  1. वाह ! ! ! ! ! बहुत खूब सुंदर रचना,बेहतरीन भाव प्रस्तुति,....

    MY RECENT POST...काव्यान्जलि ...: तुम्हारा चेहरा,

    उत्तर देंहटाएं
  2. जीवन को सफ़ल बनाऊँ कैसे...
    मै तुझ-सी खिल पाऊँ कैसे...

    Bahut Sunder Bhav....

    उत्तर देंहटाएं
  3. फूलों से हम बहुत कुछ सीख सकते हैं .... सुंदर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर....
    आप तो पहले ही सुमन है!!!!
    :-)

    सादर.
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुंदर । मेरे पोस्ट पर आपका इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर शब्द-रूपी फूलों की माला...सुन्दर प्रस्तुति!

    उत्तर देंहटाएं
  7. जीवन के जद्दो-जहद में ऐसे उल्झन भरे प्रश्न सामने आ ही जाते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुबह को खिलता, साँझ मुरझाता
    मंदिर मजार पर बलिदान चढ़ाता
    कितना सफल है जीवन तेरा
    मुझको खलती मेरी नश्वरता

    भावों की सुंदर अभिव्यक्ति।

    उत्तर देंहटाएं
  9. जीवन सफ़ल बनाऊँ कैसे...
    मै तुझ सी खिल पाऊँ कैसे...

    बड़ी प्यारी पंक्तियाँ लगीं ...
    गीत लिखने का दिल होता है ....

    उत्तर देंहटाएं
  10. भावों और शब्दों का बहुत सुन्दर संयोजन...बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत खूब ... फूलों की तरह महकती कविता ...

    उत्तर देंहटाएं
  12. जीवन को सफ़ल बनाऊँ कैसे...
    मै तुझ-सी खिल पाऊँ कैसे...ati sundar.

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत ही सुन्दर एवं सारगर्भित रचना । मेरे नए पोस्ट "अमृत लाल नागर" पर आपका बेसब्री से इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  14. सुन्दर प्रस्तुति। मेरे नए पोस्ट पर आपका इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।
    http://vangaydinesh.blogspot.in/2012/02/blog-post_25.html
    http://dineshpareek19.blogspot.in/2012/03/blog-post_12.html

    उत्तर देंहटाएं