गुरुवार, 15 मार्च 2012

मरू-उद्यान ....


                                                               हृदय के मरू उद्यान में,
                                                               काव्यों के वृक्ष घने है !
                                                               सतरंगी घटाओं में,
                                                               भावना के पुष्प खिले है !
                                                               अमर बेलों के झुरमुट में,
                                                               कोयल का नित प्रेमगान है !
                                                               शीतल झरनों के संगीत में,
                                                               अनहद का नाद छिपा है !
                                                               पक्षियों की चहचहाहट में,
                                                                जीवन का वीतराग है !
                                                                भूले-भटके पल में,
                                                                चाहे तो विश्राम यहाँ है !

33 टिप्‍पणियां:

  1. पक्षियों की चहचहाहट में,
    जीवन का वीतराग है !
    भूले-भटके पल में,
    चाहे तो विश्राम यहाँ है !

    बहुत सुंदर रचना,.....

    उत्तर देंहटाएं
  2. प्यारी रचना ...
    यह विसंगतियां ही जीवन हैं !

    उत्तर देंहटाएं
  3. आप आयें --
    मेहनत सफल |

    शुक्रवारीय चर्चा मंच
    charchamanch.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत ही सुंदर भावाव्यक्ति बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  5. हृदय के मरू उद्यान में,
    काव्यों के वृक्ष घने है !
    सतरंगी घटाओं में,
    भावना के पुष्प खिले है !
    ..... सुन्दर अभिव्यक्ति !

    उत्तर देंहटाएं
  6. भावनाओं के पुष्प ही नहीं पूरा गुलदस्ता है....

    बहुत प्यारी रचना ..

    सादर.

    उत्तर देंहटाएं
  7. पक्षियों की चहचहाहट में,
    जीवन का वीतराग है !
    भूले-भटके पल में,
    चाहे तो विश्राम यहाँ है !mast kavita hai.

    उत्तर देंहटाएं
  8. प्रकृति के अवयवों का सुंदरतम प्रयोग!!

    उत्तर देंहटाएं
  9. हृदय के मरू उद्यान में,
    काव्यों के वृक्ष घने है !.....
    जरुरी है...

    उत्तर देंहटाएं
  10. बेहतरीन रचना, कला की वीथियों में नैशर्गिक प्रतिमान जीवंत हो उठे हैं .... बधाईयाँ जी /

    उत्तर देंहटाएं
  11. भूले-भटके पल में,
    चाहे तो विश्राम यहाँ है
    bahut khoobsurat jagah dhoondhi hai.....

    उत्तर देंहटाएं
  12. प्रिय मित्रों,
    बहुत बहुत आभार आप सभी का, प्रवास में हूँ आकर आपके पोस्ट पढूंगी !
    खुश रहे सवस्थ रहे :)

    उत्तर देंहटाएं
  13. पक्षियों की चहचहाहट में,
    जीवन का वीतराग है !

    उत्तर देंहटाएं
  14. हृदय के मरू उद्यान में,
    काव्यों के वृक्ष घने है !
    सतरंगी घटाओं में,
    भावना के पुष्प खिले है ! मनमोहक रचना

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत सुंदर है यह मरु-उद्यान । चित्र तो बेहद सुंदर ।

    उत्तर देंहटाएं
  16. प्रकृति से रूबरू खुबसूरत रचना .
    बहुत सुंदर है.

    उत्तर देंहटाएं
  17. विश्राम यहां नहीं,यहीं है। अन्यथा तो दौड़ लग ही रही है बाहर की!

    उत्तर देंहटाएं
  18. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुती आप के ब्लॉग पे आने के बाद असा लग रहा है की मैं पहले क्यूँ नहीं आया पर अब मैं नियमित आता रहूँगा
    बहुत बहुत धन्यवाद् की आप मेरे ब्लॉग पे पधारे और अपने विचारो से अवगत करवाया बस इसी तरह आते रहिये इस से मुझे उर्जा मिलती रहती है और अपनी कुछ गलतियों का बी पता चलता रहता है
    दिनेश पारीक
    मेरी नई रचना

    कुछ अनकही बाते ? , व्यंग्य: माँ की वजह से ही है आपका वजूद:
    http://vangaydinesh.blogspot.com/2012/03/blog-post_15.html?spref=bl

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत सुन्दर रचना!....उत्तान अभिव्यक्ति!

    उत्तर देंहटाएं
  20. प्रकृति में हर तरफ सौंदर्य ही सौंदर्य है।
    एक अच्छी कविता।

    उत्तर देंहटाएं