शनिवार, 26 नवंबर 2011

एक पल तो जी ले !

कहाँ मिलेगी
स्नेह तरु की
सघन छाँव !
भटक-भटक कर 
थक गए अब 
ये प्राण !
किसने दिया जो 
ऐसा श्राप
जीवन हुआ 
अभिशाप 
कही ममता की 
छाँव नहीं
जीना कितना 
दुश्वार हुआ !
उगने चाहिए थे
गुलाब 
पेड़ बबुल का
उग रहा !
आओं प्रिय ...
जंगल चले 
पेड़-पौधों की 
छाँव तले !
फूलों संग बैठ 
तितलियों से 
गुफ्तगू कर ले !
प्यार के कुछ
मधुर गीत गायें 
आओं ....
उस मस्ती के 
पल में 
एक पल तो 
जी ले !

12 टिप्‍पणियां:

  1. बिल्कुल सच,
    उस मस्ती के पल में एक पल तो जी ले...
    सुंदर भाव

    उत्तर देंहटाएं
  2. भावपूर्ण रचना .. अब जंगल में ही मंगल दिखाई दे रहा है

    उत्तर देंहटाएं
  3. प्रकृति की गोद में सबसे अधिक सुकून मिलता है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुरभित सुमन ....
    शुभकामनायें आपको !

    उत्तर देंहटाएं
  5. प्रकृति से बढ़कर सुकूनदायी क्या है..... ? सुंदर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  6. वो जो विशालकाय बबूल है,हमने ही किया था उसका बीजारोपण। हां-हां, प्रेम और समर्पण की छांव तले ही मिलेगा तितलियों-सा वात्सल्य,निर्झर से उठता गीत,ज़िंदगी-बोध की मस्ती और निर्विचार के पल!

    उत्तर देंहटाएं
  7. i love your blog, i have it in my rss reader and always like new things coming up from it.
    From everything is canvas

    उत्तर देंहटाएं
  8. मानव के लिए सबसे अनुकूल प्रकृति की गोद ही तो है ....

    उत्तर देंहटाएं
  9. उस मस्ती के पल में एक पल तो जी ले..!!!!
    भावपूर्ण सुंदर रचना,...

    उत्तर देंहटाएं
  10. .


    प्रकृति की गोद में जो सुख है , और कहां ?

    सुंदर भाव ! सुंदर रचना !


    साधुवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  11. उगने चाहिए थे गुलाब पेंड बबूल का उग रहा .
    क्या करें हम बो भी तो बबूल ही रहे हैं

    आइयेगा मेरे ब्लॉग पे भी

    उत्तर देंहटाएं