रविवार, 9 अक्तूबर 2011

मुहब्बत की चाँदनी खिली है ..........



शरद चाँदनी खिली है 
अब छोड़ो भी बहाना 
जैसे भी हो 
आओं छतपर 
रात है नशीली चाँदनी 
नशीला आज मन भी 
बात है कुछ खास 
तनिक बैठो पास 
कुछ कह लेने दो 
कुछ सुन लेने दो 
धडकनों को 
आपस की बात 
आओं 
चाँदनी ओढ़े 
बिछाये चाँदनी
हम- तुम 
आकंठ पिये
अंजुली भर-भर कर 
मुहब्बत की चाँदनी
खिली है !

14 टिप्‍पणियां:

  1. चांदनी में खेलती हुई रचना बधाई .......

    उत्तर देंहटाएं
  2. प्रेम के गीतों पर तो ब्लॉग जगत में जैसे ग्रहण लग गया है। आपने ध्यान दिलाया कि प्रकृति हम सबको कुछ संदेश दे रही होती है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह! बहुत ही सुन्दर अभिवयक्ति....
    बधाई और शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  4. प्रेम बिखेरती चाँदनी ...सुंदर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  5. प्यारा आवाहन .....
    शुभकामनायें आपको !

    उत्तर देंहटाएं
  6. चांदनी में खेलती सुंदर रचना....

    उत्तर देंहटाएं
  7. आओं
    चाँदनी ओढ़े
    बिछाये चाँदनी
    हम- तुम
    ati sundar.

    उत्तर देंहटाएं
  8. प्रकृति के बिम्बों के माध्यम से कही गई मन की बातें बहुत अच्छी लगी।

    उत्तर देंहटाएं
  9. चाँदनी ओढ़े
    बिछाये चाँदनी
    हम- तुम
    sundar chandmayee rachna..

    उत्तर देंहटाएं
  10. शरद चाँदनी और प्रेम का तो साथ सदियों से है ... इसी प्रेम को अभिव्यक्त करती लाजवाब रचना ...

    उत्तर देंहटाएं