मंगलवार, 4 अक्तूबर 2011

"कैफे दि हैवन"

रावण अपने ही वध क़ी दशहरे पर चल रही तैयारियों को देखता हुआ, शहर में चल रहे हंगामे को देख कर अचंभित-सा होता हुआ टहलते हुए एक कैफे में दाखिल हुआ ! कैफे का नाम था "कैफे दि हैवन" !  सच में स्वर्ग जैसी सारी सुविधाएँ उसमे उपलब्ध थी! कॉफ़ी से लेकर सोमपान तक! रावण ने वेटर को बुलाया और मीनू लेकर आने को कहा ! उसने मीनू पर एक नजर डाली ! गरम-गरम कॉफ़ी पीने का मन हुआ ! उसने देखा कि ५० रूपये एक कॉफ़ी के लिये ! वेटर को कॉफ़ी लाने का आर्डर दिया! कॉफ़ी पीकर रावण का मन बड़ा प्रसन्न हुआ ! रावण ने वेटर को बिल लाने को कहा ! बिल आया ५०० रूपये का ! रावण एकदम क्रोधित हुआ और वेटर से कहा .."पागल तो नहीं हो तुम ? मीनू में साफ-साफ लिख़ा हुआ है ५० रूपये और तुम बिल लाये हो ५०० रूपये का" ! रावण का विकराल रूप देख कर वेटर थर-थर कांपने लगा ! उसने डरते-डरते कहा शांत रहिये मै अपने मैनेजर को बुलाकर लाता हूँ ! उतने में मैनेजर भी शोर सुनकर दौड़ता हुआ आया ! और रावण से क्रोध  का कारण जानकर कहा- "श्रीमान आप ठीक कहते है कॉफ़ी ५० रूपये ही है, लेकिन जरा गौर से ध्यान से मेनू पढ़िए ! ५० रूपये लिख़ा है मीनू में पर हेड ! और आपके तो दस सिर है इसलिए ५०० रूपये का बिल आया है !" मैनेजर ने बड़ी शांति से जवाब दिया ! और रावण ने अपने दसो सिर पिट लिये !
    
         पाठक सोच रहे होंगे राम द्वारा रावण का वध तो कब का हो चूका है ! फिर रावण कैफे दि हैवन कैसे पहुँच सकता है ? कैसे कॉफ़ी पी सकता है ?
खैर यह तो एक मजाक था पर, जिस प्रकारसे हमारे देश में भ्रष्टाचारी रावण आम जनता के हक्क को छिनकर देश को लुट रहे है ! और हम ऐसे रावणों को छोड़कर लंकापति रावण के कागज के पुतले को कब तक जलांयेंगे ?  दशहरे पर हमारा इस प्रकारसे  हर साल रावण को जलाना ही साबित करता है कि रावण जला नहीं है ! जलकर भी अमर हुआ है ! आखिर है तो मायावी..........मजा तो तब है जब ऐसे भ्रष्टाचारी रावण जलेंगे.!

11 टिप्‍पणियां:

  1. रावण जी ने दस कॉफी ऑर्डर की थी क्या । हा हा हा ।
    रावण हमारे समाज में ही व्याप्त है । हम में से हरेक के अंदर राम के साथ रावण भी बसते हैं उन्हे खत्म करना होगा ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. रावण जी ने दस कॉफी ऑर्डर की थी क्या । हा हा हा ।
    रावण हमारे समाज में ही व्याप्त है । हम में से हरेक के अंदर राम के साथ रावण भी बसते हैं उन्हे खत्म करना होगा ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. wastav me मजा तो तब है जब ऐसे भ्रष्टाचारी रावण जलेंगे.!

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपने बहुत सही बात कही है.. हर आदमी में गुणों और अवगुणों का समन्वय होता है !

    उत्तर देंहटाएं
  5. एक चिंगारी भड़की तो है। ज़रूरत है इसकी लौ जलाए रखने की। शायद कुछ बदलाव देखने को मिले।

    उत्तर देंहटाएं
  6. सटीक और सार्थक आलेख ...सुन्दर...

    उत्तर देंहटाएं
  7. एक से पेट नहीं भरता, दस-दस मुख की ज़रूरतों (लिप्सा) को लिए कई रावण हमारे इर्द-गिर्द घूम रहे हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  8. सच है,
    हम सब रावणों के बीच में हैं, जिनसे मुक्ति आसान नहीं है।

    उत्तर देंहटाएं
  9. बात तो ठीक है कि ऐसे रावणों से छुटकारा मिले तब ही सच्ची विजयादशमी होगी.

    उत्तर देंहटाएं