बुधवार, 6 फ़रवरी 2019

अहंकार अमरबेल है !

किसी भी वृक्ष पर
फैली हुई अमरबेल
धीरे-धीरे उस वृक्ष का
सारा रस चूसकर
उसके जीवन को ही
लील लेती है !
दूर-दूर तक फैला
मैं मैं करनेवाला
हमारा अहंकार
अमरबेल ही तो है
जिसमें कोई जड़
नहीं दिखती !
उपरसे हरा भरा
भीतरसे रुखा सूखा
जीवन दिखता है
पर !

12 टिप्‍पणियां:

  1. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना शुक्रवार ८ फरवरी २०१९ के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं...धन्यवाद।

    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत अच्छी और सच्ची बात ,सुंदर रचना... ,सादर स्नेह

    जवाब देंहटाएं
  3. वाह बहुत गहरा चिंतन..
    अंलकार और अमर बेल गहन दृष्टि ।

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत-बहुत सुंदर । गहरी बात कही है आपने। कम शब्दों में सागर पिरोया है। शुभकामनाएं आदरणीय सुमन जी।

    जवाब देंहटाएं
  5. आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन 136वां बलिदान दिवस - वासुदेव बलवन्त फड़के और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

    जवाब देंहटाएं
  6. सुंदर कृति। सचमुच अहंकार किसी परजीवी की तरह व्यक्ति को लील ही जाता है।

    जवाब देंहटाएं
  7. अभिशप्त वृक्ष, सहचरी क्रूर, तू अमरलता, निष्ठुर कितनी -सतीश सक्सेना
    **********************************************************
    वह दिन भूलीं कृशकाय बदन,
    अतृप्त भूख से , व्याकुल हो,
    आयीं थीं , भूखी, प्यासी सी
    इक दिन इस द्वारे आकुल हो
    जिस दिन से तेरे पाँव पड़े
    दुर्भाग्य युक्त इस आँगन में !
    अभिशप्त ह्रदय जाने कैसे ,
    भावना क्रूर इतनी मन में ,
    पीताम्बर पहने स्वर्णमुखी, तू अमरलता निष्ठुर कितनी !

    सोंचा था मदद करूँ तेरी
    इस लिए उठाया हाथों में ,
    आश्रय , छाया देने, मैंने
    ही तुम्हें लगाया सीने से !
    क्या पता मुझे ये प्यार तेरा,
    मनहूस रहेगा, जीवन में ,
    अनबुझी प्यास निर्दोष रक्त
    से कहाँ बुझे अमराई में !
    निर्लज्ज,बेरहम,शापित सी,तुम अमरलता निर्मम कितनी !

    धीरे धीरे रस चूस लिया,
    दिखती स्नेही, लिपटी सी !
    हौले हौले ही जकड़ रही,
    आकर्षक सुखद सुहावनि सी
    मेहमान समझ कर लाये थे
    अब प्रायश्चित्त, न हो पाए !
    खुद ही संकट को आश्रय दें
    कोई प्रतिकार न हो पाये !
    अभिशप्त वृक्ष, सहचरी क्रूर , बेशर्म चरित्रहीन कितनी !

    जवाब देंहटाएं
  8. अमरबेल तो फिर भी औषधि है, कुछ उपयोग हो ही जायेगा, हमारा अहंकार तो नाश ही करेगा अपना या पराया......
    सुन्दर रचना

    जवाब देंहटाएं
  9. वाक़ई अहंकार ऐसा ही होता है । सच पूछिए तो अमरबेल से भी अधिक विनाशकारी । बहुत अच्छी रचना है यह आपकी । किसी भी अहंकारी की आंखें खोल देने वाली ।

    जवाब देंहटाएं