रविवार, 14 फ़रवरी 2016

जिंदगी ...

 जिंदगी भी न 
मुझे कभी-कभी
जिद्दी अड़ियल 

छोटे बच्चे
जैसी लगती है !
जब तक उसे
दो चार कविता
कहानियाँ सुना
बहला फुसला
पुचकार न लूँ
तब तक
टस से मस्स
नहीं होती ... !

7 टिप्‍पणियां:

  1. कविता और जिंदगी में नाता है ... अनकहा ... अनबूझ ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. खूब उकेरा इस ज़िन्दगी के इस पहलू को

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर सच है जिन्दगी वाकई छोटे बच्चे की तरह होती है .बहुत खूब .

    उत्तर देंहटाएं
  4. जिंदगी सचमुच अडियल बिलकुल छोटे बच्चे की तरह।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत दिन हुए नई, पोस्ट आनी चाहिये अब तो।

    उत्तर देंहटाएं